BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी

Date:

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी

स्पीकर चुनाव में टीडीपी जेडीयू आई साफ मुश्किल में बीजेपी अड़ी तो गिरेगी मोदी सरकार इंडिया गठबंधन टीडीपी के स्पीकर उम्मीदवार का समर्थन करने को तैयार नीतीश के इंडिया के संपर्क में होने की खबर

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी

BJP ने 80 सीटें बेईमानी से जीती, कैसे हुआ खेल सामने आया सच !

नायडू कर सकते हैं बड़ा खेल लोकसभा स्पीकर को लेकर अब एनडीए में टूटत दिखाई देने लगी है जेडीयू की तरफ से भले ही दावा किया गया हो कि इस पद के लिए वह बीजेपी उम्मीदवार का समर्थन करेगी लेकिन नीतीश कुमार की खामोशी कुछ और ही दे रही है टीडीपी ने तो साफ कह दिया कि यह पद एनडीए के लिए है बीजेपी के लिए नहीं एनडीए का उम्मीदवार होना चाहिए बीजेपी का नहीं टीडीपी की तरफ से स्पीकर पद पर दावा ठोक दिया गया है पार्टी की तरफ से कहा गया कि वह एनडीए में बीजेपी के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी

इसीलिए स्पीकर का पद उसे ही मिलना चाहिए और यही परंपरा भी है अटल बिहारी वाजपेई की एनडीए सरकार का उदाहरण दिया जा रहा है लेकिन यह सच है कि यह बीजेपी वाजपई और आडवानी वाली बीजे नहीं बल्कि मोदी और शाह की बीजेपी है जो स्पीकर पद किसी भी हाल में सहयोगी दल को देने को तैयार नहीं है तो टीडीपी भी अड़ गई है स्पीकर पद पर एनडीए में सहमति बनाने की बात टीडीपी की तरफ से कही गई है और यह भी साफ कर दिया गया है कि सहमति का मतलब यह नहीं निकाला

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी

स्पीकर पद चुनाव पर मचा घमासान, TDP पर अब INDIA ने खेला बड़ा दांव

जाए कि बीजेपी के किसी भी उम्मीदवार के नाम पर सहमति बनाई जाए इसके बाद केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने एनडीए में शामिल दलों की बैठक बुलाई जिसमें अमित शाह ललन सिंह चिराग पासवान सहित एनडीए में शामिल पार्टियों के कई प्रमुख नेता शामिल हुए लेकिन इस बैठक में भी उम्मीदवार के नाम पर सहमति नहीं बन पाने की खबर सामने आ रही है स्पीकर का चुनाव 26 जून को होना है 25 जून को इसके लिए नामांकन किया जाएगा ऐसे में अब करीब सप्ताह भर का समय ही बीजेपी के पास बचा है कि वह इस पद के लिए गठबंधन में

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
पश्चिम बंगाल में दो ट्रेनों में टक्कर की खबर ने सनसनी मचा दी है एक बार फिर रेल मंत्रालय सवालों से घिर गया है

सर्वसम्मति तैयार कर ले जो फिलहाल बेहद मुश्किल दिखाई दे रही है दरअसल जेडीयू को लेकर कहा जा रहा है कि पार्टी के राजय प्रवक्ता केसी त्यागी भले ही बीजेपी का समर्थन करने का दावा कर रहे हो लेकिन नीतीश कुमार इंडिया गठबंधन के संपर्क में हैं क्योंकि मोदी सरकार से वह बेहद निराश दिखाई दे रहे हैं पहला तो जेडीयू को संख्या के हिसाब से मंत्री पद नहीं दिए गए नीतीश कुमार कम से कम दो कैबिनेट मंत्री और दो राज्यपाल मंत्री मांग रहे थे लेकिन उन्होने जेडीयू को केवल एक कैबिनेट मंत्री पद दिया गया और राज्यमंत्री का पद भी नहीं मिला साथ ही रेल वित्त जैसे कोई महत्त्वपूर्ण मंत्रालय भी जेडीयू के

BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
BJP ki Mushkil ki ghadi Shuru, BJP की मुश्किल की घडी शुरू अगर बीजेपी अड़ी तो गिरी
नीतीश और नायडू ने मोदी के खिलाफ बगावत के दिए बड़े संकेत,


हिस्से में नहीं आए इसके बाद कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार ने इंडिया के लिए अपनी खिड़कियां खोल दी हैं और जल्द दरवाजा भी खोल सकते हैं उनकी नजरें टीडीपी पर लगी हुई हैं अगर टीडीपी की तरफ से कोई संकेत मिलते हैं तो नीतीश पलटी मार जाएंगे तो दूसरी तरफ टीडीपी का रुख लगातार कड़ा होता जा रहा है इंडिया गठबंधन ने भी टीडीपी के स्पीकर उम्मीदवार का समर्थन करने का ऐलान कर दिया है इस बीच शिवसेना यूपी सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि एनडीए के सहयोगियों को बीजेपी की नीतियों से सचेत रहना चाहिए क्योंकि बीजेपी स्पीकर और गवर्नर पोस्ट का दुरुपयोग कर अपने ही सहयोगी दल को खत्म करने की कोशिश करती रही है

इसीलिए जरूरी है कि टीडीपी या जेडीयू इस पद के लिए मांग करें स्पीकर बीजेपी का नहीं हो अगर बीजेपी का स्पीकर बना तो उनकी खुद की पार्टियों को बीजेपी से बचाने में मुश्किल होगी इंडिया गठबंधन जेडीयू और टीडीपी दोनों को अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहा है जेडीयू की तरफ से हरी झंडी मिलती भी दिखाई दे रही है बस टीडीपी की बगावत का इंतजार है वैसे भी टीडीपी को आंध्र प्रदेश सरकार चलाने के लिए बीजेपी के समर्थन की जरूरत नहीं है पार्टी के पास पहले से ही दो तिहाई से ज्यादा समर्थन है ऐसे में टीडीपी एनडीए छोड़ने पर भी विचार कर सकती है अगर बीजेपी ने स्पीकर पद को लेकर उसकी मांग नहीं मानी फिलहाल टीडीपी एनडीए में स्पीकर पद के लिए आम सहमति की बात कह रही है

हमारी वेबसाइट पर आने पर आपका बहुत-बहुत धन्यवाद अगर आपको हमारा आर्टिकल अच्छा लगा है तो हमें फॉलो जरूर करें

Spread the love

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular

Recently Post
Related

प्रधानमंत्री जन-धन योजना 2024: लाभ, पात्रता और आवेदन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री जन-धन योजना 2024: लाभ, पात्रता और आवेदन प्रक्रिया प्रधानमंत्री...

Full review of Showtime Web series

Full review of Showtime Web series Showtime एक वेब सीरीज...

Krrish 4 movie updates

Krrish 4 movie updates भारतीय सुपरहीरो फ़िल्म "कृष" फ्रैंचाइज़ी की...

In-depth Review of Ameena: What You Need to Know

In-depth Review of Ameena: What You Need to Know "अमीना"...